जिंदगी में आगे कैसे बढ़ें

जिंदगी में आगे कैसे बढ़ें ( how to move ahead in life)ज़िंदगी में आगे बढ़ने के लिए क्या करें? (Zindgi me aage badhne ke liye kya kare)बहुत से लोगों को देखा है जो अपनी जिन्दगी में कीमती समय (valuable time) को बेकार चीजों और फालतू बातों पर बर्बाद कर देते हैं। या अपने daily routine में ऐसे कामों पर या ऐसी बातों पर time waste कर देते हैं,जिनसे कोई लाभ नहीं होता

Table of Contents

जो लोग आपकी हर बात में नुख्श निकालें, जो आपके हर काम में कमी ढूंढे,जो लोग आपके हर काम में नकारात्मक (negative) बात करें, ऐसे लोगों की संगत में रहने से अच्छा है कि आप अकेले रहें। जो लोग आपके सपने को ना समझ पायें, जो लोग आपको ना समझ पायें, ऐसे लोगों का साथ तुरन्त छोड़ देना चाहिए। 

ऐसे लोग हमेशा आपसे यही बोलेंगे कि “ये नहीं हो सकता” या “ये काम कभी नहीं हो सकता” या ” ये काम तुम नहीं कर पाओगे” या “ये काम तुमने सही नहीं किया” ये लोग आपको हमेशा आगे बढने से रोकेंगे या हमेशा आपका मनोबल गिरायेंगे। इसलिये ऐसे लोगों का साथ छोड़कर positive thinking वाले लोगों के साथ रहें। ऐसे लोग जो आपको हमेशा हर काम में बढ़ावा दें, आपको appreciate करें, आपका मनोबल बढायें |

2. लापरवाह होना / जिम्मेदारी को ना समझना । (Do not understand your responsibility/to be careless)

किसी भी काम में लापरवाही अंत में आपका नुकसान ही करेगी। आप अपनी जिन्दगी के जिस भी काम में लापरवाही करोगे उसमे आपको नुकसान ही उठाना पड़ेगा। चाहे वो काम आपका daily routine हो, relations हो, पढाई हो, स्वास्थ्य हो, नौकरी हो या और कुछ हो।

 रिश्तो में लापरवाही करोगे तो रिश्तो में दरार आ जायेगी, पढाई में लापरवाही करोगे तो फेल हो जाओगे, नौकरी में लापरवाही करोगे तो promotion नही होगा या नौकरी भी जा सकती है।स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह बनोगे तो स्वास्थ्य खराब हो जायेगा, अपने daily routine में लापरवाह बनोगे तो अपने daily के goals को achieve नहीं कर पाओगे। इसलिये लापरवाही छोड़िये और जिन्दगी के हर field में, हर काम में अपनी जिम्मेदारी को समझिये और हर काम को पूरी ईमानदारी, और जिम्मेदारी के साथ कीजिये। 

3.समस्यायों से दूर भागना । (Run away from the problems)

आप समस्याओं से कभी दूर नहीं भाग सकते। आप मुसीबतों से, समस्याओं से जितना दूर भागेंगे।आपकी समस्याएँ,और परेशानियाँ उतनी ही बढ़ती जायेंगी। आप समस्याओं का सामना किये बिना उन्हें खत्म नहीं कर सकते। इसलिये आपकी life में जो भी  मुश्किलें हैं, परेशानियाँ हैं, उनका डट कर सामना कीजिये और उनका समाधान कीजिये, उनका हल खोजिये। आप अपनी problems को face करके उन्हें खत्म कर सकते हैं, नहीं तो वो आपकी खुशियों को खत्म कर देंगी। 

4.ख्याली पुलाव पकाना / कुछ न कुछ सोचते ही रहना।

(To day dream)कुछ लोग हमेशा ख्याली पुलाव पकाते रहते हैं। वो सपने तो काफी बड़े बड़े देखते हैं कि “मैं ये करूँगा / “मैं वो करूंगा / “मैं ये बनूँगा । लेकिन असलियत में करते कुछ भी नहीं हैं। या जब कुछ करने का वक्त आता है तो पीछे हट जाते हैं।दोस्तों, बड़ी-बड़ी बातें सोचना, या बड़े-बड़े सपने देखना,लेकिन उनको पूरा ना करो ये गलत बात है। इसलिये आपने जो भी सपना देखा है या आपकी जो भी सोच, है जो भी ख्वाहिश है, उसको हकीकत में बदलिये, उसको पूरा करिये, उसको हासिल करिये    

5.किसी बात को लेकर डरना। (Be afraid of something)

हमें कभी भी किसी भी काम से या किसी भी बात से डरना नहीं चाहिए। डरते वो लोग हैं, जो कुछ गलत करते हैं। इसलिये अगर आप किसी से बात करना चाहते हैं या किसी से कुछ कहना चाहते हैं तो साफ साफ कह दें। हाँ आपके बात करने का तरीका सभ्य होना चाहिए। अगर कुछ काम शुरू करना चाहते हैं तो तुरन्त शुरू कर देना चाहिए। किसी भी चीज से बिल्कुल भी डरें नहीं। 

ज्यादा से ज्यादा इतना ही तो होगा, कि हो सकता है आपको rejection का सामना करना पड़े।तो भी कोई बात नहीं rejection भी आपको कुछ ना कुछ सिखाकर ही जायेगा। और ये भी हो सकता है कि आप जो करना चाहते हैं वो सही हो जाये। इसलिये अपने दिमाग से हर तरह के डर को निकालकर आप जो करना चाहते हैं निडर होकर उसको कर दीजिये । वर्ना आप सारी जिन्दगी सिर्फ डरते ही रह जायेगें। कुछ नहीं कर पायेगें।

6.बिना सोचे समझे कुछ भी बोल देना । (Say anything without thinking)

कुछ लोगों की आदत होती है कि वे सिर्फ अपने दिमाग से ही, अपनी समझ के अनुसार या ईर्ष्या के कारण किसी के भी बारे में बिना सोचे समझे कुछ भी बोल देते हैं। जिससे कभी कभी स्थिति काफी बिगड़ जाती है। सामने वाले को जाने समझे बिना ही उसके बारे में अपनी राय बना लेते हैं। 

और वो राय ज्यादातर गलत ही होती हैं।एक तरह से सामने वाले के बारे में बिना कुछ जाने ही अपने आप उससे ईर्ष्या कर रहे होते हैं और खुद अन्दर ही अन्दर जल रहे होते हैं।ये गलत है। जब तक आप किसी के बारे में पूरी तरह से जान नहीं जाओ, उसे अच्छी तरह से समझ नहीं जाओ,उसके बारे में ना गलत सोचो, ना गलत कहो, ना उसके बारे में गलत राय बनाओ और ना ही उससे नफरत करो।

इसे भी पढ़े:-

Worship of Hanuman Ji on Hanuman Janmotsav | हनुमान जन्मोत्सव पर हनुमान जी की उपासना

Worship of Hanuman Ji on Hanuman Janmotsav | हनुमान जन्मोत्सव पर हनुमान चालीसा के मंत्र और उपासना की अनोखी अद्भुत कथा हनुमान जन्मोत्सव के शुभ अवसर पर जाने और सीखें

Read More »

Students Should Understand These Things Carefully | Students इन बातों को ध्यान से समझ लें

विद्यार्थियों को यह बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि विद्या एक तप है, जिसमें हर विद्यार्थी को तपना ही पड़ता है, इस तपस्या से गुजरना पड़ता है।इस तपस्या से गुजरने

Read More »

These 9 Facts of Life Together Bring Happiness | जीवन के ये 9 तथ्य एक साथ मिलकर खुशियां लाते हैं

जीवन के ये 9 तथ्य एक साथ मिलकर खुशियां लाते हैं( These 9 facts of life together bring happiness) मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है,और वह समाज,परिवार रिश्तेदार और अपने मित्रों साथियों

Read More »

Happier to Together With Your Lifestyle Forever

अपनी जीवनशैली के साथ मिलकर हमेशा खुश रहें (Happier to Together With Your Lifestyle Forever)खुशी एक आदत है हमें आदतन खुश रहने की आदत डालनी चाहिए क्योंकि अगर हम खुश

Read More »

The greatness of Ayodhya Ramjanma pilgrimage | अयोध्या रामजन्म तीर्थ का महातम्य

अयोध्या की महिमा अपार है। भगवान श्री राम स्वयं अपने मुख से सुग्रीव,विभीषण आदि को रामचरितमानस में अयोध्या पुरी की महिमा बताते हुए कहते हैं,अयोध्या की महिमा जीव तभी जान

Read More »

7.अपनी वर्तमान स्थिति के बारे में सोचकर परेशान होना। (Get upset thinking about present)

आप अभी तक किसी चीज को हासिल नहीं कर पाये या अभी तक आप कुछ बन नहीं पाये तो आप दुखी मत होइये, परेशान मत त यू फाग रे तहोइये । समस्यायें, परेशानियाँ सभी के जीवन में लगी रहती हैं। कुछ पाने के लिये, कुछ बनने के लिये हर किसी को अपनी जिन्दगी में संघर्ष क्कचरना पड़ता है।

 समस्यायें, परेशानियाँ, संघर्ष जिन्दगी का एक अहम हिस्सा हैं। ये सफलता की पहली सीढ़ी हैं। सफलता का रास्ता इन्हीं से गुजर कर जाता है। इसलिये समस्याओं से घबराएँ नहीं मबल्कि उनका डट कर सामना करें और आपको बेहतकोर बनाने का प्रयास करते रहें।
जय श्री कृष्ण

Nirmal Tantia
मैं निर्मल टांटिया जन्म से ही मुझे कुछ न कुछ सीखते रहने का शौक रहा। रोज ही मुझे कुछ नया सीखने का अवसर मिलता रहा। एक दिन मुझे ऐसा विचार आया क्यों ना मैं इस ज्ञान को लोगों को बताऊं ,तब मैंने निश्चय किया इंटरनेट के जरिए, ब्लॉग के माध्यम से मैं लोगों को बताऊं किस तरह वे आधुनिक जीवन शैली में भी जीवन में खुश रह सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version