Gifts store feelings and happiness | एहसास और खुशियां संजोते हैं गिफ्ट

Gift का अर्थ -

Gifts store feelings and happiness प्यार और मान देने के लिए कोई वस्तु किसी को देना गिफ्ट कहलाता है। यह सामने वाले की प्रसन्नता,और उसकी पसंद को ध्यान में रखकर बिना किसी अपेक्षा के दिया जाता है।

Table of Contents

Gift की परिभाषा -

गिफ्ट को किसी मूल्य से आंका नहीं जा सकता इसको तो सिर्फ भावना से आँका जाता है। गिफ्ट का एक अर्थ,याद भी है  यानि की उन्हें हमारी याद इस गिफ्ट के द्वारा हमेशा आती रहे,जिन्हें हम चाहते हों। इस उद्देश्य से यह गिफ्ट देने लेने की प्रक्रिया की जाती है।गिफ्ट सामने वाले को बार-बार हमारी याद दिलाये,और हम उनके दिल में बसे रहें।

Gift सिर्फ मानव नहीं देते

उपहार को सिर्फ हम मानव द्वारा नहीं दिया जाता इसे प्रकृति और ईश्वरीय सत्ता के द्वारा भी हम  मानव को दिए जाने की रीत चली आ रही है।
हर बच्चा अपने माता पिता के लिए प्रकृति का उपहार होता है।

प्रकृति की पंच शक्तियां अग्नि आकाश जल वायु और पृथ्वी यह सब शक्ति भी हम मानव के लिए ईश्वर का उपहार ही होती है।
इसी तरह प्रकृति के आभूषण जैसे वृक्ष पहाड़ झरने यह सब भी प्रकृति ने उपहार स्वरूप हम सब मानव के लिए प्रदान किए हैं,जिसका हम सब आनंद लेते हैं।

जब कोई गिफ्ट देता है इसका मतलब होता है
गिफ्ट एक दूसरे के प्रति प्यार और  सम्मान  की भावना को दर्शाता है।संबंध की मधुरता के लिए उपहार का आदान प्रदान किया जाता है। यह उपहार हमारे प्यार को दर्शाता है। यह गिफ्ट हमारे मान सम्मान के साथ साथ सामने वाले के प्रति अपनापन और हमारे संबंधों के मिठास को भी दर्शाता है।

गिफ्ट देने से क्या होता है

उपहार से हमारे अंदर की भावना प्रकट होती है। गिफ्ट देने से हमारी याद उनके दिल में बसी रहती है,जिनको हम ये गिफ्ट देते हैं।उनके मन में बार-बार सम्मान की भावना और उनको उस पल की याद इस गिफ्ट को देख कर  बार बार आती है जिससे वह रोमांचित और हमारे प्रति आभारी होते हैं।

उपहार मिलने से लोगों को क्या होता है

उपहार मिलने से लोग अपने आप को सामने वाले व्यक्ति की नजर में विशिष्ट और महत्वपूर्ण मानते हैं। वह उस पल के बीत जाने के बाद भी आभार की भावना उस गिफ्ट को देख कर प्रकट करते हैं।

गिफ्ट दिये जाने वाले की भावना को देखकर गिफ्ट सहर्ष स्वीकार करना चाहिए

कई बार ऐसा भी देखने में आता है लोग जब गिफ्ट देते हैं तब लोग लेना नहीं चाहते ऐसा नहीं होना चाहिए सामने वाले की भावना,मान-सम्मान और प्यार को देखते हुए उस दिये गिफ्ट को सहर्ष स्वीकार करना चाहिए और उनका आभार भी प्रकट करना चाहिए।

उपहार देने की आवश्यकता क्यों होती है

उपहार देने की आवश्यकता उस पल महसूस होती है जब हम सामने वाले के दिल में बने रहना चाहते हैं।उनकी यादों में हम छाए रहना चाहते हैं,इसलिए ये उपहार देने की क्रिया की जाती है। इस उपहार को जब जब हम देखते हैं तब तब हमें उस व्यक्ति की याद आती है जिससे हम उसके प्रति और अधिक आभार की भावना भेजते हैं, प्रसन्न होते हैं।

ऐसा दें उपहार की यादगार बन जाए

उपहार हमेशा ऐसा दें जो लंबे समय तक उसके जीवन में काम आए और उसकी याद में बसा रहे।ऐसा करने से उपहार लेने वाला व्यक्ति हमेशा हमको याद रखता है और हमारे प्रति प्यार की भावनाएं भेजता  है।

गिफ्ट एक ट्रेंड

आज के जमाने में गिफ्ट देना एक आधुनिक ट्रेंड बन चुका है परंतु आपको जानकर हैरानी होगी कि यह ट्रेंड काफी पुरानी है।शादी और त्योहार में गिफ्ट और रिटर्न गिफ्ट देने का ट्रेंड दोनों और से हमारी संस्कृति में काफी प्रचलित रहा है। रिटर्न गिफ्ट अतिथियों को कार्यक्रम में योगदान देने के लिए आभार व्यक्त करने के लिए दिया जाता रहा है। सदियों से चली आ रही ट्रेड आज और उन्नत हो चुकी है।

गिफ्ट देते वक्त इन बातों को ध्यान रखें
आइए जानें गिफ्ट देने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए गिफ्ट का आदान-प्रदान मधुर संबंधों को जोड़ने में कड़ी का काम करता है।गिफ्ट लेना सभी को अच्छा लगता है।विशेष अवसर पर मिले गिफ्ट अपने इंपॉर्टेंस को हाईलाइट करते हैं।

गिफ्ट चेहरे पर अनमोल मुस्कान भी लाकर देती हैं।

जब गिफ्ट दूसरे के लिए लेना हो तो कभी-कभी गिफ्ट सिलेक्शन करना काफी मुश्किल हो जाता है। गिफ्ट का चयन करते वक्त यह डर हमेशा बना रहता है कि शायद अमुक गिफ्ट सामने वाले व्यक्ति को पसंद आएगा या नहीं।

इसे भी पढ़े:-

How to Attract Money to Become Rich | अमीर बनने के लिए धन को आकर्षित कैसे करें

हमें धन की जरूरत क्यों है हम सभी अमीर बनना चाहते हैं तो (Attract Money) धन को आकर्षित करना सीखो धनवान बनना चाहते हैं खुश रहना चाहते हैं,और चाहे भी

Read More »

What is Yoga | योग क्या है

 योग क्या है (What is Yoga) योग एक मानस शास्त्र है जिसमें मन को नियंत्रन करना, गलत बातों से मन को खींचना सिखाया जाता है,क्यूँकि जीवन की सफलता किसी भी

Read More »

Happy Father’s Day

मित्रों साथियों इस ब्लॉग मैं आपको बताऊंगा ( Happy Father’s Day ) अपने पिता के बारे में उनके आपके साथ,के महत्व के बारे में अचानक फादर्स डे के बारे में

Read More »

Why is Service Necessary ‘Service is the Greatest Religion’ | सेवा क्यों जरूरी है ‘ सेवा परमो धर्म ‘

सेवा क्या है सेवा आवश्यक ( Service Necessary ) है क्योकि  सेवा वास्तव में सहायक गतिविधि का एक कार्य है जिसका मतलब है किसी की मदद करना सहायता करना।सेवा का

Read More »

बदलते दौर में गिफ्ट

गिफ्ट देने में आज के समय में काफी बदलाव आया है। लोग गिफ्ट का चुनाव करते वक्त ऐसा सोचते हैं कि वे जो गिफ्ट   किसी को दें,उसके लिए वो यादगार बन जाये। इसके लिए चयन करते वक्त हम अपने दोस्तों की मदद ले सकते हैं।
यह भी ध्यान दें
जिनको गिफ्ट देना हो उनके बारे में हम पहले से संपूर्ण जानकारी हासिल करें।उनकी जरूरत उनकी उम्र और उनके व्यक्तित्व के अनुसार ही उनके लिए गिफ्ट का चुनाव करें।

गिफ्ट आईटम लिस्ट

किसी को भी कपड़े और जूते का गिफ्ट तभी दें जब हम उनकी साइज के बारे में पक्की जानकारी रखते हों।

हॉस्टल में रहने वाले बच्चों को कभी भी डेकोरेशन का सामान गिफ्ट में ना दें।

अगर बच्चे टीनएज में हो तो उनको उनके पसंद के सेलिब्रिटीज के पोस्टर भी दिए जा सकते हैं।
अगर म्यूजिक के दीवाने हो तो हेडफोन या म्यूजिक प्लेयर दिया जा सकता है।

युवा बच्चों को मोबाइल रिलेटेड accesssories भी दी जा सकती है

इसके अलावा डायरी चॉकलेट मार्क्रर फोटो, टीशर्ट, फोटो वाले पिलो कवर भी युवा पीढ़ी बहुत पसंद करती है।

गिफ्ट को कैसे पैक करें

गिफ्ट को किसी पेपर, बैग, या रिबन के द्वारा जरूर पैक करके किसी को दें।इससे गिफ्ट का महत्व बढ़ जाता है,और लेने वाला व्यक्ति खूब प्रसन्नता का अनुभव करता है।

गिफ्ट को क्यों सजाए

गिफ्ट को सजाकर देने से जिस व्यक्ति को हम गिफ्ट देते हैं, वह स्वयं को विशिष्ट महसूस करता है।उस पैक गिफ्ट को देखकर ही उसके मन में गुदगुदी होती रहती है। वह अंदर क्या है देखने को उत्साहित रहते हैं।

गिफ्ट में रिटेन नोट गिफ्ट कार्ड जरूर

गिफ्ट के साथ साथ अच्छा सा रिटेन नोट भी जरूर लिख कर डालें जिससे गिफ्ट और स्पेशल लगने लगता है। हैंड रिटेन नोट से ऐसे भाव दिखते हैं कि लेने वाले व्यक्ति को लगता है कि वह उनके लिए बहुत विशेष है।
गिफ्ट गिफ्ट गिफ्ट

जय श्री कृष्ण
Thank you

Nirmal Tantia
मैं निर्मल टांटिया जन्म से ही मुझे कुछ न कुछ सीखते रहने का शौक रहा। रोज ही मुझे कुछ नया सीखने का अवसर मिलता रहा। एक दिन मुझे ऐसा विचार आया क्यों ना मैं इस ज्ञान को लोगों को बताऊं ,तब मैंने निश्चय किया इंटरनेट के जरिए, ब्लॉग के माध्यम से मैं लोगों को बताऊं किस तरह वे आधुनिक जीवन शैली में भी जीवन में खुश रह सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version