Mantra to eliminate panic and fear

डर क्या है? जाने घबराहट और डर खत्म करने का मूल-मंत्र|Mantra to eliminate panic and fear|

मनुष्य का जीवन पल पल,परिवर्तनशील है,इस जीवन में निरंतर सुख— दुख ,हानि लाभ ,मान और अपमान की नई नई चुनौतियां आती रहती है । इन चुनौतियों के समय जब हम आगे का निर्णय नहीं ले पाते तब इस भय का जन्म और खुशियां खत्म हो जाती हैं।

Table of Contents

जानना जरूरी है | Mantra to eliminate panic and fear

भय का मूल कारण यही होता है कि हम आगामी क्षण के लिए अपने मन में नकारात्मक विचारों का स्वयं ही निर्माण कर बैठते हैं और उस पर व्यर्थ चिंतन अपने मन में करने लगते हैं।इसका मूल कारण अपने मन से भविष्य की किसी मनगढ़ंत घटना को सोचना और उसके होने के बाद के परिणाम को मन से ही सत्य मान कर डरना जिसका सत्य से या यथार्थ से कोई संबंध नहीं होता।

यह तो है कि इस दुनिया में है डर नाम की कोई चीज है इसलिए इसे जानना भी जरूरी हो जाता है क्योंकि इसी की वजह से कई बार हमें लोग जीवन में अनुशासन का पालन करते हुए दिखते हैं।

इस डर को जीतने वाला इंसान ही जिंदगी में कुछ कर पाता है। वही इंसान अपने सपनों को जीत पाता है, अपने पसंद की जिंदगी जी पाता है,क्योंकि जो इसे जानते नहीं उनको यह डर बार-बार रोकता है।

डर एक तरह की अंदर से आवाज है जो हमें, बार-बार रोकती है,जो हमें अपनी मंजिल पर पहुंचने नहीं देती। इसलिए हम डर को जाने और उसे अपने किस्मत के फैसले करने से रोकने का प्रयास करें।

डर की वजह से हम अपनी जिंदगी को जी नहीं पाते सिर्फ काट रहे होते हैं। हमें इसी डर की वजह से आलस्य और रोग घेर लेता है और जिसकी वजह से छिपना शुरू कर देते हैं,टालना शुरू कर देते हैं।

इस डर को जितना भी जरूरी है क्योंकि जो डर को जीत लेता है उसे कोई हरा नहीं सकता। इसलिए हमें इस डर की तरफ ध्यान न देकर अपने मंजिल की तरफ ही ध्यान देना ही हमें सफलता दिलाता है।

डर एक दीवार की तरह होता है जो बचपन से ही हमारे हृदय में हमारे ही परिवार के लोगों द्वारा डाल दिया जाता है। और इसी डर के पीछे हम खुद को छुपा कर कंफर्ट जोन में बैठे रहते हैं।

जिंदगी में कुछ भी प्राप्त करने के लिए हमें इस डर को हराना होगा।इसके लिए हिम्मत से शुरुआत करना और अपनी जिद के द्वारा इसे हटाकर लक्ष्य तक पहुंचना होता है।

हिम्मत और साहस से शुरुआत कर जीने वाले इस डर से मुकाबला करते हैं और इस डर की दीवार को तोड़ने के लिए जिद करते हैं,डटे रहते हैं और वे अपने लक्ष्य तक पहुंच पाते हैं। वह शेर बनकर जीने वाले लोग इस से मुकाबला करते हैं। बार-बार उस काम को करते हैं जिससे उन्हें डर लगता है और उसमे सफलता प्राप्त करते हैं।

इसके लिए वे पहले अपने आप पर काम करते हैं,जैसे अकेले रहकर निर्भय रहना, किसी से दूर रहकर भी एकांत में रह लेना आदि चीजों से वे शुरुआत करते हैं।

याद रखें

img 20210404 2002596735065059066196890

इसका जन्म हमारे मन में होता है,जो मनोविकार रूप में हृदय की दुर्बलता के कारण जन्म लेता है जिसको हमारे विचार,हमारी अपनी कल्पनाएं ही जन्म देती है।क्योंकि इसे हम अपनी सोच के माध्यम से ही तैयार करते हैं। हमारे सीमित ज्ञानकी वजह से यह जन्म लेता है।

जिस चीज से हमे डर लगता है,उसकी हमें पूरी जानकारी नहीं होतीऔर उस कार्य का हमें पूर्ण ज्ञान न होने के कारण हम निर्णय नहीं ले पाते और इससे हम डर को जन्म दे देते हैं।

डर की संताने भी

डर की संतान होती है,असमंजस की स्थिति,भेदभाव, क्या करूं क्या ना करूं, निर्णय न ले पाना,आलस्य, ईर्ष्या, निंदा, रोग, लगातार दवाइयों के चुंगल में फँसना, अपने मन में व्यर्थ के फिजूल विचारों द्वारा बातें करना आदि। डर के प्रकार

डर हमारे जीवन में कई तरह के होते हैं जैसे गरीबी का डर, निंदा, बीमारी का डर,अपने जीवन साथी के छूटने का डर, बुढ़ापे का डर, मरने का डर ,आदि आदि

याद रखे

img 20210404 2001331637575002134497036

भय मनुष्य का प्रबल शत्रु है। संसार के अधिकतर लोग इसके शिकार होते हैं लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि इस शत्रु की कोई शक्ल नहीं होती फिर भी इसके वश में होकर मनुष्य अपना आत्मविश्वास ,गौरव, अपनी प्रतिष्ठा और ईश्वर की भी सभी शक्तियों को भुला बैठता है और यहाँ तक अपनी हंसी खुशी को खो बैठता है।

img 20210404 2006273145233705261997111

इस दौरान मनुष्य अपने मन में तरह-तरह की काल्पनिक स्थिति का निर्माण कर लेता है और भयभीत रहता है, जो हुई ही नहीं।

उसमें अस्वीकार किए जाने का डर देखा जाता है जो उसकी इच्छा और महत्वाकांक्षा की हत्या कर देता है ,जो उसकी कार्य क्षमता खत्म कर देता है।

images 2021 04 04t0002547927935839482956317.

आमतौर पर लोग आने वाला कल कैसा होगा,इसकी वजह से चिंताग्रस्त देखे जाते हैं जबकि आने वाला कल मनुष्य न देख सकता है ना ही सुनिश्चित कर सकता है।

img 20210404 1820361225695605278664855

ईश्वर ने हम मानव की रचना की है,हमें हर परिस्थिति को झेलने की शक्ति दी है और हमें निर्भय होकर जीने के लिए इस संसार में भेजा है।
अभय के जीवन को प्राप्त करने के लिए हमें यह सीखना अति आवश्यक है की कैसे डर को जानना और इसके मूल कारण को पहचानना फिर उसके समाधान पर काम करना।

क्या होता है जब इसका प्रभाव बढ़ता है

img 20210404 1821545738317377204825964

हमें डर पर काबू पाना अति आवश्यक होता है,नहीं तो यह हमारा स्वामी बन जाता है और यदि एक बार इसे दबा दिया गया तो हम इसके मालिक होते हैं,और हमारे जीवन पर इसकी पकड़ ढीली होती जाती है।

भय का सामना करने से यह दुर्बल हो जाता है,और अगर इसे स्थान दिया या हृदय में बैठाया तो तनाव और उत्तेजना के रूप में यह बलशाली बन जाता है,इसलिए हमें भय का सामना करने की आदत डालनी चाहिए और इसका डट कर सामना करना चाहिए।

इस डर से निपटने के लिए क्या क्या करें

डर से बचने का सबसे अच्छा उपाय है कि आप स्वयं उसे डराए,उस से दो-दो हाथ करें ,उसका सामना करें ,और जब आप उसे डराएंगे, उसका सामना करेंगे तो वह आपसे दूर भागने लगेगा। उसके बाद आप कोई भी काम पूरे जोश और खुशी के साथ कर सकते हैं।

img 20210404 2120066233054881793036659

भय से निपटने के लिए मन मस्तिष्क और शरीर को एक दिशा में कार्य करने की शक्ति और ऊर्जा प्रदान करने के लिए व्यायाम पर विशेष ध्यान देना चाहिए। कसरत करने से हमारे मस्तिष्क का रक्त शरीर के निचले भागों में प्रवाहित होने लगता है जो हमारे मस्तिष्क को शांति देता है।

img 20210404 2119311606509047715483889

निर्भय रहने के लिए अगर हम थोड़ा मेडिटेशन या ध्यान की स्थिति में जा सके तो यह बहुत ही कारगर होता है। इस ध्यान की स्थिति में पहुंचने के लिए प्रथम हमें अपने सांसो की गति को प्राणायाम के द्वारा नियंत्रित करने का प्रयास करना चाहिए। सांसो को सही ढंग से लेने और छोड़ने का तरीका सीखना चाहिए ।दिन भर के इस भागमभाग भरे जीवन में दिन भर में तीन चार बार लंबी सांसों को फेफड़ों में भरकर छोड़ना, हमारे अनावश्यक विचारों पर लगाम लगाने में बहुत ही लाभप्रद होता है, हम अपने मन को शून्य की स्थिति में ले जा पाते हैं।

img 20210404 2005164102859362016150812

भय से निपटने के लिए हम अपने कार्य से अपने मन को किसी अन्य कार्य में लगा कर उस स्थान से अपना ध्यान हटा कर भी हम निर्भय हो सकते हैं। जैसे संगीत सुनना ,कोई मूवी देखना, कहीं टहलने चला जाना ,किसी किताब को पढ़ने लग जाना आदि।

जो डराते हैं हमें, वो खुद भी डरे होते हैं

images 2021 04 04t0021211458440706352241107.

इस भय की स्थिति से निपटने के लिए हमें समाधान पर विचार करना चाहिए।

अपने किसी गुरु या मित्र से सलाह करना चाहिए फिर उसे जीवन में अमल करना चाहिये। अर्जुन ने भय की स्थिति में अपने मित्र कृष्ण से सलाह की और इससे उबरे और अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़े ।हमें यह भी सीखना है, हमारे मित्र और गुरु तो हमें सिर्फ सलाह दे सकते हैं हमें अपनी लड़ाई तो स्वयं ही लड़नी पड़ती है और अपने सारे निर्णय स्वयं लेने पड़ते हैं और उस पर स्वयं चलना पड़ता है तभी हम इस स्थिति से निकल पाते हैं।

img 20210404 2257265597321032576949709

img 20210404 2205315814743208665549235

इस स्थिति से निकलने के लिए हमें बार-बार अपने मुख से सकारात्मक विचारों को बोलना चाहिए की मैं निर्भय हूं, पूर्ण रूप से निर्भय हूं ,परमपिता परमात्मा की महान और उत्तम कृति हूं, मैं शक्तिशाली हूं, मैं सफल हूं, आगे समाधान है,आगे खुशियां ही खुशियां हैं।

images 2021 04 04t212836375512300571518143.

निर्भय रहने के लिए हमें पूर्ण रूप से अपनी श्रद्धा और विश्वास को बनाए रखना अति आवश्यक है। इसके लिए हमें अपने विवेक को सदैव जागृत रखना और इसकी जागृति के लिए निरंतर अच्छे लोगों के संग रहना बुद्धिमान लोगों के संग रहना अति आवश्य है।

img 20210404 2000251598870215755910159

हम जैसी आशा करते हैं वैसे ही हमारी भावना का जन्म होता है और हमारी इच्छा शक्ति का निर्माण होता है,वास्तव में आशा ही इन सब की जननी है यह आशा हमारी सफल मानसिक शक्तियों को इकट्ठा करने का काम करती है,और हमें फिर से प्रसन्नता देती है।

निर्भयता के लिए हमें अपने हृदय में कानों के माध्यम से निरंतर उन सब ज्ञान के विचारों को धारण कर हृदय में प्रकाश और विवेक को जागृति करने की आदत बनानी होगी, तभी हम प्रसन्न रह सकेंगे।

हमें यह जानना और सीखना भी अति आवश्यक है इस संसार की सत्ता कोई अदृश्य शक्तियां द्वारा संचालित की जाती है और उसके द्वारा जिस किसी परिस्थिति का निर्माण होता है वह हम सबके लिए कल्याण के लिए होता है और इसे हमें स्वीकार करना आवश्यक है।

img 20210404 2306508546021514615901245

हमें अपने मन में सदैव सकारात्मक विचार बनाए रखने चाहिए और हम किसी भी तरह के संशय को अपने मन में न आने दें। यदि कभी मन में संशय आए तो भी हम उसे किसी उचित सलाहकार से सलाह के माध्यम से उसे तुरंत दूर करें ,उस पर काम करे,उसके समाधान पर काम करें और तुरंत अपनी प्रसन्नता को प्राप्त करें।

images 2021 04 04t0018292812688386033714269.

निर्भय रहने के लिए हमें नित्य निरंतर सत्संग से जुड़े रहना चाहिए अच्छे लोगों से जुड़े रहना चाहिए जिससे हमें यह पता रहता है,यह संसार क्या है, कैसे और किन शक्तियां द्वारा इसे संचालित किया जाता है।किस तरह से यह ब्रह्मांड संचालक प्रत्येक स्थिति का निर्माण अपने संचालन और सभी के कल्याण के लिए ही करता है।

यह बातें सिर्फ हमें सत्संग के माध्यम से ही सुनने और सीखने के लिए मिलती है। सत्संग में हमें स्वस्थ और ,सकारात्मक विचार सुनने को मिलती हैं ,जो हमारे मन को स्वस्थ रखती हैं,और वे हमारी मानसिक स्थिति को अनुकूलता प्रदान करते हैं। जिससे हमारा मन स्वस्थ रहता है ,तभी हम स्वस्थ रहते है और प्रसन्नता का अनुभव करते हैं।

निरंतर ब्रह्मांड की इन शक्ति से जुडने से प्रसाद के रूप में हमें जीवन में प्रथम लाभ निर्भयता का ही मिलता है ,जिसकी वजह से ही हम निर्भय रह पाते हैं जीवन में आनंदित और खुश रह पाते हैं।

images 2021 04 04t2126205440553170919953136.

निर्भय होने के लिए हमें परिवर्तन को स्वीकार कर, नए-नए परिवर्तन करने के लिए नए निर्णय के ऊपर काम कर,उसे अवसर समझ कर,उस पर क्रियात्मक रूप से तुरंत कार्य करके अंजाम पर पहुंचना चाहिए ।

कई बार निर्भय होने के लिए हमें ,अपनी स्थिति से ऊपर आने के लिए ,कुछ परिवर्तन करने पड़ते हैं जिसे हम उस वजह से टालमटोल करते रहते हैं कि हम सफल होंगे या असफल होंगे और उसकी वजह से हम जीवन में भय से ग्रसित हो जाते हैं ,अपनी खुशियों को दांव पर लगा बैठते हैं। आगे के जीवन की सफलता के बारे में निर्णय नहीं ले पाते जबकि कड़े निर्णय लेकर परिवर्तन की इस स्थिति में समाधान पर, तथा आगे के जीवन पर काम करना चाहिए।

images 2021 04 04t2124416497766322768574151.

निर्भय होने के लिए हमें अपने डर के विचारों को स्थिति को ,कलम के माध्यम से कागज पर उतार कर उस से होने वाले लाभ और हानि पर अपने विचारों को लिखना चाहिए और उनके समाधान को भी लिखकर चिंतन करना चाहिए। जिससे हम अपने निर्णय ले पाते हैं और पुनः अपने जीवन को निर्माण कर पाते हैं, अपनी खोई हुई खुशियों को प्राप्त कर पाते हैं।

images 2021 04 04t2132016164868021666024411.

निर्भय रहने वाले मनुष्य का पाचन तंत्र मजबूत होता है और उसके रक्त का संचार भी उसके शरीर में सुचारू रूप से चलता है जो उसे आनंद देता है।

img 20210404 2007214139401681880044760

निर्भयता के लिए हमें अपनी शक्तियों को पहचानना, जीवन जीने के अद्भुत सूत्रों को सीखना होगा तभी हम जीवन में प्रसन्न रह सकते हैं और इसके लिए हमें अपने हृदय की तुच्छ दुर्बलता को त्याग कर अपने कर्म क्षेत्र में डटे रहना होगा।निर्मित सभी स्थितियों का स्वागत करना उसके सम्मुख होना और आगे बढ़ते रहना ही हमें निर्भयता और खुशियां फिर से दिलाता है।

img 20210404 1822471252308999590236414

किसी भी बड़ी सफलता को प्राप्त करने के लिए हमें अपने जीवन में निर्भय होना भय से ऊपर उठना अति आवश्यक है। जो इंसान इस भय से ऊपर उठ पाता है वही जीवन में बड़ी सफलता प्राप्त कर पाता है। हमें यह देखना चाहिए की इस स्थिति में लिए गए इस निर्णय से सबसे बुरा क्या हो सकता है और मैं उसके साथ, उस स्थिति के साथ ,जीवन गुजारने को तैयार हूं या नही फिर वह इंसान अपने जीवन को हंसी खुशी से भरा, सुख समृद्धि से भरा बना पाता है।

सफलता के लिए अभय होना निर्भय होना अति आवश्यक है यदि स्वभाव में कहीं भी कायरता दिखाई दे,कमजोरी दिखाई दे ,तो हमें अपने उत्साह को सशक्त बनाने पर काम करना चाहिए। ऐसे में कभी घबराना नहीं चाहिए। ऐसे समय में स्वस्थ विचारों से मन को भर कर ब्रह्मांड नायक की ओर उसकी शक्तियों की ओर अपनी दृष्टि और मनोवृति की और केंद्रित कर हमें उत्साह और आनंद के जरिए अपने को शक्ति और ऊर्जा से भरना चाहिए।

img 20210404 1818579126809377824371447

निर्भयता के लिए जीवन में हमेशा इस बात को भी सीखना है की मंजिल हमारे सदैव सामने होती है पीछे नहीं होती पीछे तो हमारा इतिहास होता है।

हमेशा याद रखें कि डर के आगे ही जीत होती है डर से दो-दो हाथ करते ही हम अपने लक्ष्य के पास खड़े नजर आते हैं और इसे टालमटोल करना हमें एक चुनौती से ग्रसित कर देता हैइसलिए जीवन की सफलता और हंसी खुशी के लिए इस डर पर पांव रखकर आगे बढ़ना चाहिए और खूब प्रसन्न रहना चाहिये।

img 20210404 2320512399180795846003227

इसके
आगे
कोई
आपका
इंतजार कर रहा है

img 20210404 wa00747022604135397898920

खुशियाँ ही खुशियाँ हैं।

जय श्री कृष्ण

थैंक् यू

Nirmal Tantia
Nirmal Tantia
मैं निर्मल टांटिया जन्म से ही मुझे कुछ न कुछ सीखते रहने का शौक रहा। रोज ही मुझे कुछ नया सीखने का अवसर मिलता रहा। एक दिन मुझे ऐसा विचार आया क्यों ना मैं इस ज्ञान को लोगों को बताऊं ,तब मैंने निश्चय किया इंटरनेट के जरिए, ब्लॉग के माध्यम से मैं लोगों को बताऊं किस तरह वे आधुनिक जीवन शैली में भी जीवन में खुश रह सकते हैं

2 thoughts on “डर क्या है? जाने घबराहट और डर खत्म करने का मूल-मंत्र|Mantra to eliminate panic and fear|

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
Control your mind अमीर बनने के 11 स्मार्ट तरीके working student should know अमीर सोच की आदत Happy start up Which Passive income give regular money and happiness अंतरराष्ट्रीय मित्रता दिवस 2 अगस्त सोचें और अमीर बनें कैसे अमीर बनने के कुछ नियम जाने Happy and sad/ सुख और दुख Rich habits can give happiness Secret for what you want ब्रह्मांड के अद्भुत रहस्य/universal secret ये बातें स्कूल में नहीं सिखाई जाती Universe की कृतज्ञता ज्ञापन How guardian improve tenage mental health Student affirmation for success And happiness Knowledge is power आज का दिन नये खुशी के पल जीवन में सफल होना है तो 5 बातों को कचरे के डब्बे में डाल कर ये 5 बात को सोच और बोल में लें
%d bloggers like this: