tv kaise upyog kare

TV कैसे उपयोग करें? जाने TV देखने के फायदे और नुकसान | (tv kaise upyog kare)

हेलो दोस्तों आज हम जाने गे की T V कैसे उपयोग करें? (tv kaise upyog kare ) आज के युग में टेलीविजन विज्ञान का एक अद्भुत आविष्कार है।टेलीविजन ने मनुष्य के जीवन पर पूरी तरह से कब्जा कर रखा है। यह एक ऐसा आविष्कार है,जो बिना रुके निरंतर 24×7 दिन हमारा मनोरंजन,वर्तमान में कर रहा है।

आधुनिक समाज के लिए टेलीविजन एक प्रधानता से जरूरत बन गया है,क्योंकि यहां हर वर्ग के लिए कुछ ना कुछ चैनल और मनोरंजन के साधन आजकल उपलब्ध हैं।इस टेलीविजन के माध्यम से जागरूकता और शिक्षा फैलाने में तो मदद मिलती ही है, किंतु इसको देखने और उपयोग करने के लिए कुछ नियमों को जीवन में जानना बहुत जरूरी है।

टेलीविजन हमारे मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव डालता है।वर्तमान युग में यह हमारे जीवन में हमारे परिवार के सदस्य की तरह हो गया है,जिसके साथ हम अक्सर समय व्यतीत करते हैं।वर्तमान समय में यह हमारे राष्ट्र, समाज और जीवन को जागृत करने का एक सशक्त माध्यम भी है।टेलीविजन के माध्यम से खबरों का आदान-प्रदान सारे विश्व को तुरंत हो जाता है,जिससे हम सब एक दूसरे से जुड़े रहते हैं।टेलीविजन के माध्यम से युवा पीढ़ी का ज्ञान भी काफी हद तक बढ़ रहा है,और युवा होते बच्चे ज्ञान में पहले की तुलना में अधिक तीव्र गति से विकसित हो रहे हैं।ऐसे में कुछ टेलीविजन से जुड़ी बातों और तथ्यों और जानकारियोंको जानना अति आवश्यक है।

इस टेलीविजन की वजह से हमारे जीवन पर भी काफी प्रभाव पड़ा है।हमारे समाज में कई तरह की विकृतियों की रोकथाम की लिए भी लोगों में जागरूकता बड्डी है।वर्तमान समय में यह प्राय: सभी घरों में उपलब्ध है।21 नवंबर को सारे विश्व में यह दिन टेलीविजन दिवस के रूप में मनाया जाता है।

टेलीविजन हमारे जीवन में मनोरंजन, ज्ञानवर्धक,जानकारी देने वाला,खाली समय व्यतीत कराने का बहुत अच्छा साधन बन गया है,किंतु इसका उपयोग यदि कुछ बातों की सावधानी रखते हुए करें,तो हम समय की बर्बादी,स्वास्थ्य के प्रति सजगता,परिवार और रिश्तो में दूरी,आदि इसके दुष्प्रभाव से बचे रह कर इसका आनंद ले सकते हैं।

Table of Contents

लोक डाउन का यह पक्का साथी

girl watch tv

जब सारे विश्व में लॉकडाउन हुआ उस समय भी इस टेलीविजन ने ही सारे विश्व को एकजुट में बांधकर रखा।लोग इस टेलीविजन के माध्यम से ही खाली समय को व्यतीत किए,और खुशी महसूस करते रहे। इस तरह यह चुनौती के समय हमारा सच्चा साथी बना।

इस तरह उपयोगी

टेलीविजन के मनोरंजक प्रोग्राम,हमारे मन को खुशी देते हैं,जिनसे हमें बहुत कुछ सीखने को भी मिलता है।टीवी देखने से खाली समय हमारा आसानी से कट जाता है।हम सारे विश्व की गतिविधियां भी घर बैठे जान जाते हैं।

स्मार्ट T v खरीदें,इससे हम बड़ी स्क्रीन पर यू tube पर अपने पसंद के कार्यक्रम देखें।

किंतु आजकल इसके कुछ फायदे होने के साथ-साथ,हम मानव के लिए अज्ञानता वश,कहीं कहीं यह टीवी विनाशकारी स्वरूप भी बन जाता है।

न्यूज़ सुनें,सिर्फ सूचना रखने को

news

देश- विदेश, शहर और गांव में होने वाली जो घटना की जानकारी हमें सोशल मीडिया, टेलीविजन, या मोबाइल के माध्यम से मिलती है,उसे हम न्यूज़ कहते हैं। इसका हिंदी शाब्दिक अर्थ समाचार भी है।

आजकल सोशल मीडिया पर टीवी के माध्यम से 24 घंटे खबरों का प्रचार- प्रसार हो रहा है। इसे कैसे देखें और इसके क्या लाभ है, इसे देख कर हम क्या खो रहे,और क्या पा रहे हैं,इस पर चिंतन करना जरूरी है।

समाचार को आजकल, टीवी, इंटरनेट और विभिन्न सोशल मीडिया के द्वारा लोग क्षण-क्षण प्राप्त करते हैं,और कमाल की बात है,लोग इसे जानने के लिए हर समय उत्सुक और बेचैन भी दिखाई देते हैं।वे नये समाचार की खोज में अपने मन ,मस्तिष्क को लगाए रहते हैं।

इन खबरों को जानने के लिए कुछ घरों, ऑफिसों में तो कार्य समय में भी टीवी स्क्रीन चलती रहती है,और वे काम करते-करते बीच में वहां नजर मार कर खबर देखने को जागरूक रहते हैं।

टीवी के माध्यम से जिस तरह हम अपने समय को बर्बाद करते हैं,हमें ध्यान देने की जरूरत है।ऐसा देखा जाता है सुबह से शाम तक की एक ही खबर को कुछ घंटों के बाद बार- बार बार दिखाया जाता है,और हम अपने मस्तिष्क को एक ही खबर से बार बार अवगत कराते रहते हैं और जिसकी वजह से हम अपने समय को बर्बाद करते हैं।

खबरों के द्वारा हमें अपने आपको देश दुनिया की खबर से update रखना आवश्यक है, किंतु हर समय न्यूज को,बार बार सोशल मीडिया के माध्यम से देखना, समय और ऊर्जा दोनों की बर्बादी है ।एक निश्चित समय जो पसंद हो १० मिनट का शतक देख कर हम खुद को update रखें।इसे मनोरंजन का साधन न बनाएं।

TV से खुशियाँ दूर

टीवी मनोरंजन का एक अच्छा साधन भले ही हो पर आमतौर पर ऐसा देखा जा रहा है इससे अनेक लोगों की जिंदगी से खुशियां खो सी गई है।लगातार टीवी देखते रहने से जहां सेहत का नुकसान हो रहा है, वहीं टिवी पर प्रसारित अन्य कार्यक्रम सामाजिक और नैतिक समस्याएं भी पैदा कर रहे हैं।ये कार्य क्रम लोगों की खुशियों को दुख में बदल रहे हैं।अधिक देर तक टीवी देखने से दिल, दिमाग और आंखों पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

मंद हो रही मानसिक शक्ति

मस्तिष्क की क्रियाशीलता भी कम होती जा रही है।लोग मानसिक रूप से अवसाद से घिर रहे हैं।

परिवार से दूरी

रोजाना घंटो तक टीवी देखने वाले परिवार के लोग आपस में सही तरीके से बातें भी नहीं कर पाते।उठते बैठते आपस में एक दूसरे को ताने मारते हैं,लगातार बैठे रहने की वजह से वे थके हुए होते हैं।उनके सभी काम अपूर्ण रहते हैं।कोई भी काम उनका सही समय पर नहीं होता।उनका समय व्यर्थ के टीवी कार्यक्रम देख कर ही नष्ट हो जाता है।

ऐसे भी पढ़े :-

नींद से दूरी

वर्तमान में जिस तरह हम टि वि से जुड़ कर देर रात तक इसके कार्यक्रम को देखते हैं, उससे हमारा मस्तिस्क विश्राम और नींद अच्छी नहीं ले पाता, हम खिन्न से रहते हैं और नींद अच्छी न ले पाने की वजह से मन उदासीन रहता है।

बिल गेट्स मिलियनेयर का अनुभव

दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बिल गेट्स का कथन है टीवी समय को नष्ट करने का सबसे अच्छा यंत्र है,जो स्वास्थ्य के साथ-साथ खुशियों को भी निगल जाता है। वह इसे डब्बा कहते हैं,और यह भी कहते हैं कि वह इस डब्बे से हमेशा दूर रहते हैं।

घर की महिला पर दुस्प्रभाव

घर की महिलाएं इस टीवी पर सीरियल के द्वारा मनोरंजन कर अपना समय व्यतीत करती हैं,जबकि उन्हें यह मालूम ही नहीं वे किसी के घर का झगड़ा या किसी के घर की चुनौतियां देख कर अपना समय बर्बाद करती हैं,इससे वे अपने मन मस्तिष्क में कई तरह के नकारात्मक विचार को भेजते हैं।वे इस सीरियल को अपने मनोरंजन और अपने नित्य जीवन में स्थान दे कर अपनी व्यर्थ ऊर्जा और समय को नष्ट करती हैं।

क्रिकेट

watching cricket in tv

क्रिकेट भी टीवी के माध्यम से घर-घर में घंटों देखा जाता है,जिसके कारण समय और ऊर्जा की व्यर्थ बर्बादी होती है,सिर्फ दो खिलाड़ी खेलते हैं,बाकी करोड़ों लोग उनहें देखकर अपनी समय और ऊर्जा को नष्ट करते हैं।ऐसा भी देखने में आता है कोई भी विकसित देश जैसे अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, रसिया,इस खेल को नहीं खेलता।

बच्चों का स्वास्थ्य

बच्चों के लिए समय की नियमितता टीवी के लिए रखनी बहुत जरूरी है नहीं तो यह बच्चे टीवी में ही,अपना सारा शिक्षा का समय व्यतीत कर देते हैं।बच्चों के लिए जितना स्क्रीन टाइम कम होता है उतना ही उनके लिए लाभप्रद होता है। वे अब खेल खेलना तो भूल ही रहे हैं।

आँखों पर दुस्प्रभाव

हम मानव की सबसे ज्यादा ऊर्जा आँखों से खर्च होती है।टीवी देखने का सबसे प्रतिकूल प्रभाव हमारी आंखों पर पड़ता है,क्योंकि आंखों के द्वारा रंग बिरंगी किरणो के संग से हमारी आँखें कमजोर होती है।आँखों के द्वारा सबसे ज्यादा हो ऊर्जा व्यय होती है,जो हमारे शरीर को आलस्य और मस्तिष्क को विकृति से भर देती है।

कुल मिला कर

वैज्ञानिक उन्नति के साथ आज मनोरंजन के लिए सस्ते साधन के रूप में टेलीविजन हर घर में उपलब्ध है। वर्तमान समय में आधुनिक धारावाहिक के रूप में प्रतिदिन मनोरंजन कराने वाले कार्यक्रम,बिना वेतन के सेवक की तरह हमारे जीवन में प्रचुरता से उपलब्ध है।हमारे जीवन में आवश्यक वस्तुओं को जुटाने और आज की महंगाई के कारण आज के मानव के लिए टेलीविजन मनोरंजन का उत्कृष्ट साधन बन गया है। टेलीविजन मन को स्थिर करने का साधन और एकाग्रता का अभ्यास है,इसके उपयोग से हृदय नेत्र और कानों की एकता हमारे मन को मनोरंजन देती है, खुशी देती है।

Thank You

हिंदी blogs

जय श्री krisna

Nirmal Tantia
Nirmal Tantia
मैं निर्मल टांटिया जन्म से ही मुझे कुछ न कुछ सीखते रहने का शौक रहा। रोज ही मुझे कुछ नया सीखने का अवसर मिलता रहा। एक दिन मुझे ऐसा विचार आया क्यों ना मैं इस ज्ञान को लोगों को बताऊं ,तब मैंने निश्चय किया इंटरनेट के जरिए, ब्लॉग के माध्यम से मैं लोगों को बताऊं किस तरह वे आधुनिक जीवन शैली में भी जीवन में खुश रह सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
रथ यात्रा कुछ जरुरी बाते जो आपको अमीर बनने से रोक रही है। आखिर क्या है राज ?? Thank You की Vaccine आलोचना की स्थिति में क्या करें ताकि खुशी बनी रहे। जाने धीरू भाई अम्बानी के परिवार की सोच और विचार। आमिर लोग आमिर बनने के लिए क्या क्या करते है। यह कुछ सुझाव है जो पैसो को अपनी और खींचने मे मदद करेगा। विश्व संगीत दिवस पर संगीत सुनने के लाभ (21 जून 2022) International yoga day 21 June 2022 सफल लोग अपनी छुट्टियां कैसे बिताते हैं? अमीर लोग और अमीर क्यों बनते हैं। Why do rich people become richer? अमीर कैसे बनाती है ये आदतें..(How these habits make you rich..) 80% and 20% rules of life. खुश रहने के 10 राज। 10 secrets to being happy लड़की और माँ के रिश्ते की ये बातें बढ़ती उम्र में | सुख की परिभाषा क्या है। What is the definition of happiness? जीवन पर सर्व श्रेष्ठ विचार। best thoughts on life Khushi jab आने वाली होती है, तब ये संकेत दिखाई देते हैं। (GSEB) गुजरात बोर्ड 12वीं का परिणाम घोषित मुश्किल हालातो मे हमे किन किन बातों पर ध्यान देना चाहिए??
%d bloggers like this: