life of service person

सेवा देने वाले का जीवन अनमोल | life of service person

सेवा का शाब्दिक अर्थ ,दूसरे जीव का हित ,और प्रसन्नता कैसे हो?।सेवा का अर्थ किसी को सुख देकर प्रसन्न होना भी होता है। सेवा के द्वारा हम अपने तन, मन, धन द्वारा किसी व्यक्ति विशेष की सेवा या मदद करते हैं। इस क्रिया के द्वारा हमारा मन खुशियों की एक तरंग से भर जाता है, और हम अपनी किसी वस्तु या सेवा द्वारा दूसरे व्यक्ति को सुख देकर, खुशियां और सुख पहुंचाते हैं। सच्ची सेवा उसे कहते हैं की जिसके बदले हमारी सेवा के बदले उस व्यक्ति से हमारी कोई अपेक्षा नहीं हो।

सेवा देने की भावना को भी कहा जा सकता है। सेवा यानी दूसरे की भावना को प्रसन्नता पहुंचाना भी हो सकता है।

Table of Contents

सेवा हृदय के भाव से ,बाकी वस्तु अपने आप | life of service person

सेवा के दौरान हम लोगों की न्याय युक्त आशाओं को पूरा करते हैं, और उन्हें खुशियां पहुंचाते हैं ।सेवा के दौरान हम लेने की आशा का सर्वथा त्याग करते हैं। शरीर के नाते ,परिवार के नाते ,देश और मित्रता के नाते अपना कर्तव्य समझकर सेवा कर स्वयं भी खुशी होते हैं, और जिस मानव की हम सेवा करते हैं वो भी खुश होता है । सेवा से हम प्रसन्नता और खुशी का अनुभव करते हैं।

यदि धन का सामर्थ्य ना भी हो तो दूसरों के दुख से दुखी हो ,और दूसरे के सुख में हम सुखी हो जाएं, यह सेवा हम बिना रुपए पैसे के बिना बल के बिना सामग्री के कर सकते हैं, उनके लिए हम प्रार्थना करें हे नाथ उन का कल्याण हो तो यह भी सेवा ही है और ऐसे सब पुरुष को देखकर मन में काफी प्रसन्नता महसूस होती है। दरअसल सेवा एक हृदय का भाव है और अगर यह भाव हृदय में उपस्थित हो तो बाकी साधन अपने आप ही हम अपने सामर्थ्य के अनुसार सेवा में लगा देते हैं। चाहे तन से सेवा करनी हो, मन से सेवा हो ,धन की सेवा हो, या समय देकर सेवा करनी पड़े बाकी सारे साधन वस्तुएं हमारे हृदय की भावना पर निर्भर होते हैं।

क्या होता है, सेवा से

img 20210526 1655424634202664064863162
सेवा देने वाले का जीवन अनमोल | life of service person 121


सेवा करने की भावना, सेवा के लिए संबंध ,हमारे जीवन को प्रसन्नता और खुशियों से भरता है। हमारी इस भावना से मन में हमें शांति , खुशियां ,और आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद मिलती है। सेवा करने की भावना से हम अपने पास उपस्थित वस्तु का सदुपयोग कर पाते हैं उन्हें जरूरतमंद तक पहुंचाते हैं और प्रसन्नता का अनुभव करते हैं ।

img 20210526 1656026580202234364880979

सेवा के बदले चाह


ऐसे भी अनुभव में आता है यदि पानी में रहकर पानी को ग्रहण करें तो हमें डूबना पड़ता है ,इसी तरह संसार में रहकर संसार से कुछ लेने की आशा,हमें डुबो सकती है और संसार को सिर्फ सुख देने की भावना हो तो हमें खुशी दे सकती है।

किसी मानव के सुख या दुख में सुखी और दुखी होने की भावना से हमारा मन और मस्तिष्क नए रसायन उत्पन्न करता है, जो हमारे जीवन, हमारे मन, मस्तिष्क में खुशियां भर देता है।

img 20210526 1657432365983742142717381

सेवा करने के विभिन्न तरीके और माध्यम

हर इंसान को सेवा के विभिन्न तरीके सीखने चाहिए ।हम अपने परिवार के बड़े बुजुर्गों की आज्ञा का पालन कर उनकी भी सेवा कर सकते हैं । किसी जरूरतमंद की तन ,मन, धन से सेवा कर भी उसकी मदद कर सकते हैं ,जो हमारे जीवन में खुशियो की तरंगों का संचार करती है।

हर इंसान को सेवा के विभिन्न तरीके सीखने चाहिए।

हम अपने परिवार के बड़े बुजुर्गों की आज्ञा का पालन कर उनकी भी सेवा कर सकते हैं। किसी जरूरतमंद की तन ,मन, धन से सेवा कर भी उसकी मदद कर सकते हैं।

आजकल चूंकि गौशाला को शहर से बाहर या दूर रखा जाता है , कहीं कहीं तो ऐसा भी देखने में आता है कि उनके पास जाकर सेवा के लिए हमारे पास समय नहीं होता। हम गौशाला जाकर सेवा न भी कर सकें तो अपने धन को गौशाला में भेजकर भी सेवा करवा सकते हैं ,गौ सेवा से जुड़ सकते हैं। इस तरह गौ सेवा से जुड़ने से भी हमारा यह लोक और परलोक दोनों सुधरता है ,और हमारा आत्म बल और हमारी प्रसन्नता के स्तर में भी काफी परिवर्तन आता है।

सेवा के लिए वर्ष में 1 दिन को, हम अनाथ बच्चों को मिठाई बांटना ,और वस्त्र बांटने का काम भी कर सकते हैं, यह सुअवसर का दिन हम बच्चों के जन्मदिन पर भी रख सकते हैं, इससे बच्चों में भी सेवा की भावना का जागरण होता है, और वह भी सीखते हैं ,और प्रसन्नता का अनुभव करते हैं।

सेवा का एक माध्यम ,हम कहीं किसी मंदिर या मैदान में कभी किसी कथा या सत्संग कार्यक्रम आयोजन कर ज्ञान यज्ञ के माध्यम से हम बहुत लोगों को अपने तन मन धन और समय लगाकर इन आयोजनों के माध्यम से सेवा कर सकते हैं। इस सेवा से भी हमारा तन ,मन, धन ,सभी का सदुपयोग भी होता है ,और समाज का भी कल्याण होता है।

हमारा मान सम्मान बढ़ता है ,घर के सभी सदस्य काफी कुछ सीख पाते हैं, और हम सब प्रसन्नता का अनुभव करते हैं।

इन सब का आयोजन हम अपनी 25वीं सालगिरह या किसी तरह की गोल्डन जुबली के अवसर पर करें तो इस समय सब परिवार के सदस्य इकट्ठे होकर इसका आनंद भी ले सकते हैं।

सेवा किसी भी माध्यम से की जा सकती है क्योंकि सेवा में तो सिर्फ भावना की आवश्यकता होती है ।बाकी तो सारी शक्तियां, और सामर्थ्य इस भावना से जुड़ते ही अपने आप आने लग जाते हैं।

निस्वार्थ सेवा ही हमें खुशियां देती है, जिनसे हमारा लेने का कोई संबंध नहीं, वही सच्ची सेवा है।हमें अपनी सेवा की जिम्मेवारी अपने घर तक ही नहीं, जीव, जंतु ,देश ,सगे संबंधी, पड़ोसी के लिए भी समझनी चाहिए।

अपने दैनिक जीवन में पक्षी सेवा ,गौ सेवा ,आपदा ग्रस्त क्षेत्र में धन की मदद द्वारा सेवा कर भी खुशी का अनुभव कर सकते हैं।

कहीं जल का अभाव हो ,उस क्षेत्र में जल की सेवा प्रदान कर जल की व्यवस्था कर भी सेवा कर सकते हैं।

अपने ज्ञान के द्वारा दूसरे मानव को सन्मार्ग और उचित सलाह देकर उसे सेवा के लिए जागृत कर भी हम खुश हो सकते हैं।

सच्ची समाज सेवा अपने देश के नागरिकों को सफाई और अपने स्वास्थ्य के लिए जागृत कर भी हम अनुभव कर सकते हैं।

img 20210526 1542175495261531632228055
सेवा देने वाले का जीवन अनमोल | life of service person 122


सेवा की भावना हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाती है , हमारे जीवन में खुशियां और आनंद का प्रवाह करती है ।शरीर से जीवन में संसार की सेवा की भावना हमें मानव बनाती है ।मनुष्य के द्वारा जितनी व्यापक सेवा होगी उतना ही श्रेष्ठ वह खुशियों को प्राप्त कर सकेगा। हमें जो कुछ मिला है ब्रह्मांड से मिला है,और इसे बड़ी ईमानदारी से ब्रह्मांड की सेवा में लगा कर खुशी का हम अनुभव कर सकते हैं।

मेरा तो यह भी मानना है कि इस भावना को हर बच्चों में भी जागृत किया जाना चाहिए ,और इसके लिए हमें उनके हाथों से सेवा करवा कर, उन्हें प्रेरना दे कर, इस भावना को जागृत कर उन्हे भी खुशी प्राप्त का यह नुस्खा सीखाना होगा ।

धन्यवाद

img 20210526 1542562548703345049232329
Seva se khushiyan hi kushiyan

Jai sree krisna

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »
व्यापार का महत्व जानें । आजादी के अमृत महोत्सव पर Mission happiness | Mukesh ambani indian business magnet | नींद आने का उपाय। Neend aane ke upaye | व्यस्त रहें, मस्त रहें | vyast rahe, mast rahe | अमीर कैसे बनें जानें हमारे प्रेरना स्रोत धीरू भाई अंबानी और उनके सुपुत्र मुकेशजी अंबानी के जीवन से | Insaan ko khushi kab milti hai | इंसानो को ख़ुशी कब मिलती है | Teenage के लिए Positive पारिवारिक रणनीतियाँ !! To Win | जीतने के लिए !! डर को भगाने के १o तरीके। फ्रेंडशिप डे क्यों मनाया जाता है !! आर्थिक समृद्धि के उपाय | कर्ज मुक्ति के उपाय डर क्या होता है। परीक्षा में फेल हो जाना जिंदगी में फेल हो जाना नहीं Youth Competition, और सुखी जीवन के लिए प्रशिक्षण। धन के जीवन में निरंतर प्रवाह के रहस्य युवा जानें secret ऑफ money Insaan ko khushi kab milti hai Youth पैसों को पकड़कर रखने के 10 तरीके सिखे पैसों को संभालना सीखें तभी और मिलेगा विद्यार्थी जीवन भविष्य की तैयारी का पड़ाव है
%d bloggers like this: